उत्तराखंड के नए राज्यपाल बने लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह, आज संभाल सकते हैं चार्ज

उत्तराखंड में नए राज्यपाल के रूप में भारतीय सेना से रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह को नियुक्त किया गया है। बेबीरानी मौर्य के इस्तीफे के बाद उन्हें ये जिम्मेदारी सौपी गई है। वह आज राज्यपाल का चार्ज संभाल सकते हैं। वह मशहूर डिफेंस एक्सपर्ट माने जाते हैं और सोशल मीडिया में भी खासे सक्रिय रहते हैं। इन्हे चीन मामले में भी एक्सपर्ट माना जाता है। इतना ही नहीं ये रक्षा और विदेश नीति से संबंधित टीवी डिबेट शो में हिस्सा लेते रहे हैं। साथ ही कई पत्र-पत्रिकाओं के जरिए भी रक्षा और सामरिक मुद्दों पर अपनी राय रखते रहे हैं।

आपको बता दें कि लेफ्टिनेंट के नियुक्त कर माना जा रहा है। माना जा रहा है कि भाजपा ने विधानसभा चुनाव के लिए बड़ा दांव खेला है। 2022 में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं, ऐसे में सैन्य बाहुल्य प्रदेश उत्तराखंड में लेफ्टिनेंट जनरल सिंह को राज्यपाल नियुक्त कर केंद्र सरकार ने एक तीर से दो निशाने साधे हैं। उत्तराखंड के बिपिन रावत पहले ही सीडीएस के तौर पर काम कर रहे हैं।
जनरल सिंह को चीन मामलों पर जानकार विशेषज्ञ माना जाता है।

आपको बता दें कि लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह भारतीय सेना में चार दशक की सर्विस के बाद साल 2016 में रिटायर हुए। भारतीय सेना में रहते हुए उनकी बेहतरीन सेवा के लिए उन्हें चार बार राष्ट्रपति पुरस्कार से नवाजा गया। जिसमें दो गैलेंट्री और दो चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ कमेंडेशन अवॉर्ड शामिल हैं। वह भारतीय सेना में कई पदों पर रहे हैं। सिंह पूर्व डिप्टी चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ, श्रीनगर में कॉर्प्स कमांडर, डायरेक्टर जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशन यानी डीजीएमओ जैसे अहम पदों पर रहे हैं। यह भारत-चीन संबंधों पर ही चेन्नई और इंदौर यूनिवर्सिटी से एमफिल कर चुके हैं। उन्होंने जेएनयू के स्कूल ऑफ इंटरनेशलन स्टडी से पढ़ाई की।

+