RCB को भी मिला ‘कैप्टन कूल’!, किया अपने कप्तान का एलान, विराट के जगह इसे मिली बड़ी जिम्मेदारी !

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (आरसीबी) ने आखिरकार अपने नए कप्तान के नाम का एलान कर दिया। आरसीबी ने दक्षिण अफ्रीका के फाफ डुप्लेसिस को टीम का नया कप्तान बनाया है। वे विराट कोहली की जगह लेंगे। कोहली ने पिछले साल आईपीएल के दूसरे फेज से ठीक पहले यह कहा था कि वे अगले सीजन से आईपीएल में कप्तानी नहीं करेंगे। डुप्लेसिस आरसीबी के सातवें कप्तान होंगे।

विराट ने 2011 में पहली बार टीम की कप्तानी की थी। इससे पहले विराट के अलावा 5 खिलाड़ियों ने बेंगलुरु की कप्तानी की थी। राहुल द्रविड़  टीम के पहले कप्तान थे। उसके बाद अनिल कुंबले, डेनियल विटोरी, केविन पीटरसन और शेन वॉटसन ने टीम की कमान संभाली।

कप्तान बनने पर डुप्लेसिस ने क्या कहा?

फाफ डुप्लेसिस ने कहा- मुझे कप्तान बनाने के लिए आपका शुक्रिया। मैंने बहुत सारे आईपीएल मैच खेले हैं। किसी भी विदेशी खिलाड़ी पर भरोसा करना मुश्किल होता है। आरसीबी ने मुझे इसके काबिल समझा उसके लिए मैं उनका शुक्रगुजार हूं। दूसरी ओर, फाफ डुप्लेलिस को कप्तान बनाए जाने पर विराट कोहली ने कहा, “मैं उनकी कप्तानी में खेलने को लेकर उत्सुक हूं। उनके साथ बेहतर साझेदारी के लिए तैयार हूं।”

कप्तानी के अलग-अलग तरीके पता चले –

डुप्लेसी ने साथ ही कहा कि धोनी की कप्तानी में खेलने के बाद उन्हें पता चला कि कप्तानी के अलग-अलग तरीके होते हैं | डुप्लेसी ने कहा, “मेरे लिये दिलचस्प चीज ये रही कि जब मैंने चेन्नई के साथ शुरूआत की थी तो दक्षिण अफ्रीका में कप्तानी संस्कृति को देखते हुए मुझे एमएस पूरी तरह से इसके विपरीत लगे थे और जब मैं यहां ऐसे माहौल में आया तो मैंने जो सोचा था, वह पूरी तरह से अलग निकले. मुझे फिर पता चला कि कप्तानी के अलग तरीके हो सकते हैं, लेकिन अपना तरीका होना महत्वपूर्ण है | क्योंकि जब दबाव आता है तो खुद का तरीका ही मदद करता है |

कोहली-धोनी जैसी कप्तानी की कोशिश नहीं

पूर्व साउथ अफ्रीकी कप्तान ने हालांकि, ये भी साफ किया कि उनकी और धोनी की कप्तानी में समानता जरूर है, लेकिन वह उनकी तरह कप्तानी की कोशिश नहीं कर सके | उन्होंने कहा, इसलिये मैं विराट कोहली की कप्तानी की शैली नहीं अपना सकता क्योंकि मैं विराट कोहली नहीं हूं | मैं एमएस धोनी की तरह की कप्तानी की कोशिश भी नहीं कर सकता | लेकिन मैंने कुछ चीजें सीखी हैं जिससे मेरी कप्तानी की शैली में मदद मिली | मैं इस यात्रा के लिये शुक्रगुजार हूं |”

 

+