बेहद तंगहाली में बीता था राखी सावंत का बचपन, अनिल अंबानी की शादी में खाना परोसने के मिले थे 50 रुपए

राखी सावंत को आप पसंद करते हों या ना करते हों लेकिन उनको जानते नहीं हों ऐसा तो मुमकिन नहीं है। राखी समय-समय पर सुर्खियां बटोरना और सुर्खियों में रहना दोनों ही बहुत अच्छे से जानती हैं। आज हम जिस राखी को जानते हैं या देखते हैं वो एक बोल्ड, बिंदास, बेबाक डांसर और एक्ट्रेस है जिसको कोई फर्क नहीं पड़ता कि लोग उनके बारे में क्या कहते हैं या फिर उन्हें कितना ट्रोल किया जा रहा है या फिर उनका कितना मज़ाक बन रहा है।

 

हालांकि राखी हमेशा से ऐसी नहीं थीं, उनकी लाइफ स्ट्रगल की एक अलग दास्तान है। उनकी लाइफ के स्ट्रगल्स ने ही शायद उनको ऐसी जगह पहुंचा दिया है जहां उन्हें अब लोगों की परवाह ही नहीं है। पैसों के लिए अंबानी की शादी में खाना सर्व करने से लेकर नैशनल टेलिविज़न पर स्वयंवर रचाने तक, राखी की ज़िंदगी अनगिनत उतार-चढ़ावों से भरी रही है।

एक समय पर खाना और दूसरी बेसिक सुविधाओं के लिए भी तरसने वाली राखी सावंत आज एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री का जाना माना नाम हैं। उन्होंने भले ही शोबिज़ में कोई बहुत यादगार काम ना किया हो लेकिन उन्होंने कभी किसी काम को करने से इंकार भी नहीं किया। यहां जानिए राखी की लाइफ और उनसे जुड़ी ऐसी ही कुछ बातें।

10 साल की उम्र से कर रहीं काम

  • राखी का असली नाम नीरू भेड़ा है। उनकी मां जया भेड़ा ने एक कांस्टेबल आनंद सावंत से दूसरी शादी की जिसके बाद राखी को दूसरे पिता का सरनेम मिला। राखी का जन्म 25 नवंबर 1978 को मुंबई में हुआ था।
  • राखी का बचपन बेहद बदहाली में बीता। यही वजह है कि 10 साल की उम्र से ही उन्होंने काम करना शुरू कर दिया था। 10 साल की उम्र में राखी ने अनिल अंबानी और टीना अंबानी की शादी में खाना सर्व करने का काम किया था। इस काम के लिए उन्हें 50 रुपए मेहनताना मिला था।
  • इसके बाद 11 साल की उम्र में राखी ने जब एक डांडिया इवेंट में हिस्सा लेना चाहा तो उनकी मां ने उन्हें खूब मारा और उनके बाल काट दिए। राखी को इस बात से बेहद सदमा लगा और उन्होंने ठान लिया कि वो पेरेंट्स की मर्जी के खिलाफ जाकर ही काम करेंगी।

रिजेक्शन भी खूब झेले

  • राखी ने मुंबई के विले पार्ले में स्थित गोकलीबाई हाई स्कूल से स्कूलिंग की। इसके बाद मिठीबाई कॉलेज में दाखिला लिया।
  • इसी दौरान उन्होंने फिल्मी दुनिया में जगह बनाने की ठानी और कुछ निर्माताओं को अप्रोच करना शुरू किया लेकिन रिजेक्ट हो गईं।
  • रिजेक्शन के चलते राखी ने कॉस्मेटिक सर्जरी से अपने चेहरे और शरीर को सुधारा। इसके बाद 1997 में फिल्म अग्निचक्र से उन्होंने बॉलीवुड में डेब्यू किया। ‘जोरू का गुलाम’, ‘ये रास्ते हैं प्यार के’, ‘जिस देश में गंगा रहता है’ जैसी फिल्मों में भी वह नजर आईं ।

इस गाने ने पलटी किस्मत

  • 2003 में गाने ‘मोहब्बत है मिर्ची’ गाने ने उनकी किस्मत पलट दी। यह गाना उन्हें चार बार ऑडिशन देने के बाद मिला था। इसके बाद राखी ‘मस्ती’ और ‘मैं हूं ना’ जैसी फिल्मों में भी छोटे-मोटे रोल करती नजर आईं।
  • 2006 में बिग बॉस के पहले सीजन में वह टॉप फोर फाइनलिस्ट तक पहुंचीं।

 

+