गेहूं के दामों में जबरदस्त उछाल रूस और यूक्रेन के युद्ध की वजह से लोगों की जेबें ढीली।।

गेहूं के दाम वैश्विक स्तर पर 10 साल से अभी तक के उच्चतम स्तर पर पहुंच चुके हैं जिसका असर भारत में भी देखा जा रहा है भारत में भी गेहूं की कीमत बढ़ चुकी है रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध जारी है और इस युद्ध के कारण इसका असर इसके गेहूं के निर्यात पर भी देखा जाएगा।रूस और यूक्रेन दोनों के बीच जंग छिड़ी हुई है परंतु इन दोनों के बीच जारी इस युद्ध का असर सिर्फ इन दोनों देश की सीमाओं तक ही सीमित नहीं है परंतु इस युद्ध की वजह से पूरी दुनिया को अब इस जंग का परिणाम देखना पड़ेगा रूस कहीं खाद्यान्नों कच्चे तेल और योगिक धातु का बहुत बड़ा निर्यातक है और इस युद्ध के कारण इन सभी चीजों की आपूर्ति बड़े खतरे में पड़ चुकी है इसी वजह से इन सभी चीजों के दाम वैश्विक स्तर पर मानव आसमान भी छू रहे हैं।

युद्ध की वजह से बड़ा प्रभाव

रूस और यूक्रेन की युद्ध की वजह से गेहूं के निर्यात में भी बहुत प्रभाव हुआ है और ऐसी आशंका भी लगाई जा रही है कि आने वाले समय में गेहूं की आपूर्ति भी प्रभावित होगी भारत और चाइना के बाद रूस गेहूं का सबसे बड़ा उत्पादक है और गेहूं के निर्यात के मामले में यह शीर्ष स्थान पर है गेहूं निर्यातक देशों में यूक्रेन भी पीछे नहीं है वह उसका स्थान पांचवा है।भारत में भी वर्ष 2021 और 2022 के दौरान सरकार ने गेहूं के रिकॉर्ड उत्पादन का अनुमान जारी किया है लेकिन वैश्विक स्तर पर इसकी बढ़ती कीमत को देख कर हमारे देश में भी भारी मात्रा में गेहूं के निर्यात की तैयारी जारी है यही कारण है कि घरेलू बाजार में भी गेहूं के दामों में तेजी आ गई है मध्यप्रदेश के इंदौर में गुरुवार को गेहूं ₹2400 प्रति क्विंटल के दर पर बिक रहा था परंतु शुक्रवार को इसके दाम बढ़ गए और तेजी से बढ़ते बढ़ते यह 24 सौ से ₹25 प्रति क्विंटल हो गए। अभी कुछ समय पहले स्थानीय बाजार में गेहूं ₹2000 प्रति क्विंटल के भाव से भी बिक रहा था।

बाजार में आई तेजी

गेहूं का मिनिमम सेलिंग प्वाइंट यानी कि न्यूनतम समर्थन मूल्य वर्ष 2022 और 2023 के लिए ₹2015 प्रति क्विंटल तय किया गया है और किसान आमतौर पर इसी दर से गेहूं बेचने को तवज्जो देते हैं लेकिन अब बाजार में एमएसपी से भी अधिक कीमत मिल रही है कारोबारियों ने आईएएएनएएस को बताया कि एमएसपी के ऊपर गेहूं के भाव का होना यह दर्शाता है कि सरकारों को किसानों से इस बार कम मात्रा में गेहूं मिल पाएगा।

+