पिथौरागढ़ के अजय को मिलेगा राष्ट्रीय युवा पुरस्कार, लाखों की नौकरी छोड़ बालश्रम व भिक्षावृत्ति के खिलाफ चला रहे राष्ट्रीय अभियान - Shubh Network

पिथौरागढ़ के अजय को मिलेगा राष्ट्रीय युवा पुरस्कार, लाखों की नौकरी छोड़ बालश्रम व भिक्षावृत्ति के खिलाफ चला रहे राष्ट्रीय अभियान

जिस उम्र में लोग कमाने और अपनी जिंदगी संवारने मौत मस्ती करने में लगे रहते है उस उम्र में उत्तराखंड के युवा अजय ओली दुनिया में मिसाल कायम कर रहे है। उन्होंने अपनी जिंदगी गरीब बच्चों  के सुनहरे भविष्य के लिए समर्पित कर दी है। उनका चयन राष्ट्रीय युवा पुरस्कार के लिए हुआ है। बता दें कि उत्तराखंड से इस पुरस्कार के लिए अजय का चयन हुआ है।

आपको बता दें कि 28 वर्षीय  अजय ओली सीमांत जिला पिथौरागढ़ के टाना गांव में रहते है। उन्होंने ह्यूमन रिसोर्स होटल मैनेजमेंट व टूरिज्म में मास्टर कर हैं। वह विगत पांच वर्षों से बालश्रम व भिक्षावृत्ति को समाप्त करने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर अभियान चला रहे हैं । उन्होंने बेहतर सरकारी नौकरी के मौके और लाखों का कारोबार छोड़कर उन्होंने अपने जीवन को बच्चों के सुनहरे भविष्य लिए समर्पित करने का लक्ष्य बनाया । लखनऊ से नंगे पांव यात्रा कर उन्होंने इस अभियान की शुरुआत । वह अब तक भारत के से अधिक शहर , आठ राज्य 1300 से अधिक संस्थान और तीन लाख से अधिक लोगों को अभियान से जोड़ चुके हैं । एक लाख से अधिक किमी नंगे पांव जागरूकता यात्रा कर चुके है।

बता दें कि वर्ष 2018-19 के लिए दिए जाने इस पुरस्कार के लिए पूरे से मात्र सात युवाओं का चयन किया गया है उत्तराखंड से मात्र अजय को यह उपलब्धि मिली है । लेकिन उनका सफर बहुत मुश्किल भरा रहा है । लेकिन तमाम मुश्किलों को दरकिनार कर वर्तमान में बच्चों को निशुल्क शिक्षा देने में जुटे हैं अब तक वह हजार से अधिक बच्चों शिक्षा माध्यम से मुख्य धारा जोड़ चुके हैं । उनका नाम लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड , इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड में भी  दर्ज है। उनकी इस उपलब्धि से राज्य को उन पर गर्व है।

+