उत्तराखंड बोर्ड में कैसे होगा 10वीं-12वीं का मुल्यांकन , रिजल्ट का फॉर्मूले पर शासन में मंथन

 देशभर में कोरोना के कारण शिक्षा पर गहरा प्रभाव पड़ा है। जहां अन्य कक्षाओं के बच्चों को प्रमोट कर दिया गया है तो वहीं बोर्ड के विद्यार्थी अभी भी दुविधा में है। सुप्रीम कोर्ट के दखल के बाद सीबीएसई बोर्ड का फॉर्मूला पास हो गया है लेकिन अभी उत्तराखंड का मामला फंसा हुआ है। उत्तराखंड बोर्ड ने भी सीबीएसई की तर्ज पर 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं रद्द कर दी थी।  ऐसे में उत्तराखंड बोर्ड के अधिकारी 10वीं और 12वीं के रिजल्ट को लेकर मंथन कर रहे है।

बता दें कि 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं के परिणाम का मूल्यांकन आधार शिक्षा विभाग ने तय कर लिया है। सोमवार को शिक्षा विभाग की उच्च स्तरीय बैठक में इस पर मुहर लग गई है। जिसे एक या दो दिनों में शासन को भेज दिया जाएगा। शासन से मंजूरी मिलने के बाद कक्षा 10वीं और 12वीं के छात्रों का परीक्षा फल जारी किया जाएगा।

कमेटी की बैठक में तय किया गया कि, 10वीं और 12वीं के छात्रों को पूर्व की परीक्षाओं के अंकों के आधार पर नंबर दिए जाएंगे। इस आधार पर कक्षा 9 में जो परफॉर्मेंस रही, उनके आधार पर 10वीं और 11वीं की परफॉर्मेंस के आधार पर 12 के छात्रों को अंक मिलेंगे। इसके साथ ही कमेटी द्वारा सभी स्कूलों से फरवरी और मार्च में हुए मासिक टेस्ट के अंक भी मांगे गए हैं। वहीं प्रैक्टिकल के लिए भी स्कूलों से पुराने रिकॉर्ड भी मांगे गए हैं। ताकि उसी के आधार पर छात्रों को प्रक्टिकल के अंक दिए जा सके।

कक्षा 10वीं और 12वीं के परीक्षा फल के फॉर्मूले में इस बात का भी विशेष ध्यान रखा गया है कि जिन सरकारी स्कूलों में कोरोना काल के चलते प्री बोर्ड परीक्षाएं आयोजित नहीं हो सकी हैं। उन स्कूलों के छात्रों को किस आधार पर परीक्षा में उत्तीर्ण किया जाएगा।

+