उत्तराखंड में नदियां हुई खतरनाक, खतरे के निशान के पार, कई इलाके डूबे, केदारनाथ आपदा की यादें हुई ताजा - Shubh Network

उत्तराखंड में नदियां हुई खतरनाक, खतरे के निशान के पार, कई इलाके डूबे, केदारनाथ आपदा की यादें हुई ताजा

उत्तराखंड में लगातार बारिश का दौर जारी है। मानसून आते ही नदियां भी उफान पर आ गई है। हर और पानी ही पानी है। बारिश ने मची तबाही की खौफनाक तस्वीरे सामने आ रही है। 16 जून 2013 को जिस तरह केदारनाथ आपदा में आई ने जो तांडव मचाया था वो कोई नहीं भूल सकता। इस जल तांडव में गंगा नदी में आए उफान में ऋषिकेश स्थित भगवान शिव की मूर्ति तेज बहाव में बह गई थी, वहीं शिव की मूर्ती एक बार फिर छूकर बह रही है।

पिथौरागढ़ और चमोली जैसे सीमांत ज़िलों के साथ ही ऋषिकेश जैसे इलाकों में भी नदियां उफान पर बह रही हैं। उफनाती नदियां केदारनाथ आपदा की याद दिला रही है। परमार्थ निकेतन के घाट पर बनी भगवान शिव की मूर्ति को छूकर गंगा बह रही है।अलकनंदा नदी का प्रवाह बढ़ जाने निचले इलाके चपेट में आ गए हैं और बाढ़ जैसे हालात बन रहे हैं।अलकनंदा ने कई निचले इलाकों को डुबो दिया है।

राज्य के पहाड़ी ज़िलों में कई जगह भू कटाव और भूस्खलन की खबरें बनी हुई हैं। यात्रियों और लोगों से बेहद सतर्क रहने की अपील भी लगातार की जा रही है।भारी बारिश के चलते पिछले कुछ दिनों से लगातार मुश्किलों का दौर बना हुआ है। पिथौरागढ़ की बंगापनी तहसील से जोखिम और खतरे की बानगी देती तस्वीरें सामने आ रही हैं।

पिछले 48 घंटों से हो रही भारी बारिश के चलते यहां नदियां उफान पर हैं। इसके साथ ही, भू कटाव हो रहा है, तो कहीं भूस्खलन। नदियों के उफान पर बहने के वीडियो जो वायरल हो रहे हैं, उनमें कहीं पेड़ तो कहीं दुकानें ज़द में दिख रही हैं। बता दें कि पिछले साल भी यहां इसी तरह तबाही मची थी, जब 11 लोग की मौत हुई थी।

+