जाने आखिर क्यों हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उत्तराखंड के इस गांव के मुरीद ,जानें क्या है खास बात................ - Shubh Network

जाने आखिर क्यों हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उत्तराखंड के इस गांव के मुरीद ,जानें क्या है खास बात…………….

उत्तराखंड का क्यारकुली-किल्टा गांव हर तरह से देश के लिए मिसाल बनता जा रहा है। चाहे आप किसी भी क्षेत्र की बात कर ले। यह हर छेत्र में अव्वल निकलता जा रहा है फिर चाहे बिजली पानी और पर्यावरण संरक्षण में बिजली की सुविधा की बात हो। इसके अलावा गांव में पुनर्निर्माण का कार्य भी अच्छे ढंग से हुआ है और इन सभी बातों के अलावा सरकार की योजना पूर्ण रूप से यहां पर बिना किसी और बाजार के लागू करी गई। कुछ साल पहले जो गांव पीने के पानी के लिए टैंकरों पर निर्भर थे, वहां अब हर घर में पर्याप्त पानी पहुंच रहा है।

मसूरी के पास गांव क्यारकुली-किल्टा गांव दून से करीब 30 किमी दूर है, यह गांव अपनी साफ-सफाई, संसाधनों और खूबसूरत नजारों के कारण भी पर्यटकों को आकर्षित कर रहा है। ग्राम प्रधान कौशल्या रावत ने बताया कि प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर इस गांव में 35 होम स्टे हैं| यहां की समृद्ध वनस्पतियों और जीवों के कारण बड़ी संख्या में पर्यटक यहां रुक रहे हैं, जिससे स्वरोजगार की संभावनाएं बढ़ गई हैं। इस गांव में लोगों ने स्वच्छता को बहुत गंभीरता से लिया था। गांव के प्रधान ने बताया कि 10 लाख रुपये की राशि में से 2.5 लाख रुपये पेयजल व्यवस्था में सुधार पर और 7.50 लाख रुपये सफाई व्यवस्था पर खर्च किए| 340 परिवारों के इस गांव में कचरा प्रबंधन पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है|

पर्यावरण संरक्षण के प्रति अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए क्यारकुली गांव में लोगों ने करीब 22 हजार पौधे लगाए हैं| इसमें भी प्राकृतिक जल स्रोतों के आसपास पेड़-पौधे लगाकर जल संरक्षण का प्रयास किया गया है। ग्राम प्रधान के पति राकेश रावत ने बताया कि गांव की पानी की मांग कुल नौ जल स्रोतों से पूरी होती है| इसके साथ ही सोक पिट बनाकर भूजल को रिचार्ज भी किया जा रहा है। गांव में एक लाख पौधे लगाने का लक्ष्य है। इसके साथ ही चाल-खाल तैयार करने की भी योजना है।

शनिवार को वर्चुअल माध्यम से प्रधानमंत्री ने ग्रामीणों से संवाद किया तो पूरे गांव में जश्न का माहौल था। महिलाएं पारंपरिक वेशभूषा में कार्यक्रम स्थल पर पहुंचीं, जबकि बच्चे व बुजुर्ग भी बड़े उत्साह के साथ संवाद कार्यक्रम में शामिल हुए। इस दौरान काबीना मंत्री गणेश जोशी, पेयजल सचिव नितेश झा, जिलाधिकारी डा. आर राजेश कुमार समेत जल संस्थान और प्रशासन के कई अधिकारी भी कार्यक्रम में शामिल हुए।

+