उत्तराखंड में अब नौनिहालों को पढ़ाई जाएगी गढ़वाली, कुमाऊंनी भाषाएं, लोक भाषाओं को मिलेगा बढ़ावा - Shubh Network

उत्तराखंड में अब नौनिहालों को पढ़ाई जाएगी गढ़वाली, कुमाऊंनी भाषाएं, लोक भाषाओं को मिलेगा बढ़ावा

उत्तराखंड में अब स्थानिए भाषाओं को बढ़ावा देने के लिए बड़ी पहल की गई हैं। अब बच्चों को विद्यालयों में पहली से पांचवीं कक्षा तक अन्य विषयों के साथ गढ़वाली कुमाऊंनी, स्थानिए भाषाएं भी पढ़ाई जाएगी। शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय ने इसके लिए शिक्षा विभाग के अधिकारियों को स्थानिए भाषा में शिक्षा कराने का प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि , प्रदेश में पहले से ही गढ़वाली और कुमाऊंनी भाषा की पढ़ाई करवाई भी जा रही है। सरकार के इस कदम की सराहना की जा रही हैं।

आपको बता दें कि शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय ने नई शिक्षा नीति पर बोलते हुए कहा कि , प्रदेश में पहली से पांचवी तक की पढ़ाई गढ़वाली – कुमांऊनी समेत स्थानीय भाषाओं में करवाने की तैयारी की जा रही है। शिक्षा विभाग के अधिकारियों को इसके लिए संभावनाएं तलाश कर प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए गए हैं। विद्यालयों से शुरू हो रहे गढ़वाली पाठ्यक्रम को लेकर इससे पहले शिक्षकों से राय-मशविरा भी किया गया था। प्रतिभागी शिक्षकों ने पाठ्यक्रम की सराहना करते हुए इसे गढ़वाली भाषा के संरक्षण के लिए अहम बताया।

बता दें कि गढ़वाली बोली-भाषा को संरक्षित करने और मौजूदा समय में बच्चों से दूर होती जा रही लोकभाषा की उन्हें सीख देने के लिए यह योजना बनाई गई। शिक्षा मंत्री ने ये बात उस समय कहीं जब वह ननूरखेड़ा स्थित वर्चुअल क्लास के केंद्रीय स्टूडियो के माध्यम से उत्तराखंड में शिक्षकों , अभिभावकों और जनप्रतिनिधियों से संवाद कर रहें थे। बता दें कि सरकार की इस पहल से न सिर्फ बच्चे अपनी लोक भाषा से जुड़ेंगे बल्कि उत्तराखंड की सस्कृति के भी करीब होंगे।

+