शिवभक्तो के लिए जरूरी खबर,उत्तराखंड में घुसने पर क्‍वारंटाइन होंगे कांवड़ यात्री, सख्ती बढ़ी

सावन का महीना शुरू होने वाला है।  हिंदू धर्म में ये महीना बहुत महत्वपूर्ण होता है। इस महीने का शिवभक्तों को  बेसब्री से इंतजार रहता है।  भगवान शिव और माता पार्वती की इस पूरे महीने विधि विधान से पूजा अर्चना की जाती है। इस बार 25 जुलाई से सावन का महीना शुरू हो रहा है।  शिव भक्त इस महीने में कावड़ यात्रा पर जाते हैं। कावड़ियों के लिए ये यात्रा बहुत ही महत्वपूर्ण होती है । लेकिन उत्तराखंड आने वाले कांवड़ियों के लिए एक जरूरी खबर है। उत्तराखंड में कांवड़ यात्रा को रोकने के बाद अब प्रशासन ने और सख्ती बढ़ा दी है। यदि कोई कांवड यात्री जबरदस्ती प्रदेश में घुसने की कोशिश करेगा तो उसे क्‍वारंटाइन  कर दिया जाएगा।

बता दें कि डीजीपी अशोक कुमार ने दो टुक कह  दिया है कि यदि उत्तराखंड की सीमा में कोई कांवड़ यात्री घुसता है तो उसे 14 दिन तक क्वारंटाइन  कर दिया जाएगा। जिसके लिए सीमाओं पर पुलिस फोर्स बड़ा दी जाएगी है। इसके साथ ही आसपास के रेलवे और बस स्टेशनों पर पुलिस टीम तैनात रहेगी। यहां पहुंचने वाले कांवड़ियों को उत्तराखंड की सीमा के पार छोड़ा जाएगा।इसके लिए अलग व्यवस्था की गई है। इसके लिए डीजीपी ने गढ़वाल रेंज के डीआइजी को निर्देश दे  दिए है। जल्द ही पुलिस विभाग की बड़ी बैठक भी होने वाली है।बैठक में दूसरे राज्यों को टैंकरों के माध्यम से गंगाजल भेजने पर विचार किया जा सकता है।

आपको बता दें कि सावन के महीने में कांवड़ियां कंधे पर गंगाजल लेकर आते हैं और पैदल यात्रा कर प्रसिद्ध शिवलिंग पर चढ़ाते हैं। ज्यादातर लोग गौमुख, इलाहबाद, हरिद्वार और गंगोत्री जैसे तीर्थस्थलों से गंगाजल भरते हैं। इस दौरान श्रद्धालु कांवड़ को जमीन पर नहीं रखते हैं। कांवड़ चढ़ाने वाले लोगों को कांवड़ियां कहा जाता है।

+